Friday, January 16, 2009

हुई दस्तक इस दिल में...

हुई दस्तक इस दिल में ,
जब आपका पैगाम आया ,


कितनी शामों से था इंतजार जिसका ,

वो दिलनशी आज शाम आया .


मरहबा सी खुशबु में ,

लिखा था नाम हमारी जुदाई का ,


खता हमने की मोहब्बत की ,उसने बेरुखी की ,

फिर भी हमपे बेवफाई का इल्जाम आया .


1 comment:

  1. वो हमें छोड़ कर चली गई,न समझा हमारे प्यार को,
    और भरी महफ़िल में हमे बेवफा करार कर दिया...

    ReplyDelete