Friday, January 16, 2009

अदा हो जाते हो ख़त....

कहानी है बदल गई इस जिंदगी की ,
जब से दूर हो तुम गए ,


हर एक आहत पे लगे तुम आए ,

हर एक नूर में तुम दिखे ,


हँसी हो जाता समां ,

गर आंसूं की दुआ कुबूल हो जाती ,


और अदा हो जाते हो ख़त सारे ,

जो नाम हमने तेरे लिखे .


No comments:

Post a Comment