Friday, January 16, 2009

जाने तू या जाने ना ...

जाने तू या जाने ना ...

माने तू या माने ना ...


है मेरी जिंदगी की डोर तू ,

शालीन शब् की भोर तू ,


है मेरे दिल में रहती तू ,जाने तू या जाने ना ...

प्यार बहुत करते है तुमसे ,माने तू या माने ना ...



एक मुस्कुराहट ने तेरी ,

है बदल दी शख्शियत मेरी ,


तकदीर ने जोड़ा है तुझको मुझसे ,जाने तू या जाने ना ...

हर लकीरों में है चेहरा तेरा ,माने तू या माने ना ...



करीब है तू या दूर है ,

इस जमाने से मजबूर है ,


तेरी पायलों की छम छम से हूँ जीता ,जाने तू या जाने ना ...

जुदाई में गिरे नम में हूँ जीता ,माने तू या माने ना ...


No comments:

Post a Comment