Friday, January 16, 2009

आई गई खुशी..

आई गई खुशी तेरे मेरे दरमियाँ ,
अजब खेल भी इश्क खिलाता है .


कि हम जाते आईने में ख़ुद को खोजते ,

कोई और हमे मिल जाता है .

No comments:

Post a Comment