Friday, January 16, 2009

टूटे शीशों में...

टूटे शीशों में कई नक्स देखता हूँ मैं ,
एक तुम थे जो तोफहे को तोड़ गए.

हम तो एक तस्वीर के आशिक थे ,

शीशों में तुम हजारों छोड़ गए .

No comments:

Post a Comment