Saturday, November 29, 2014

कुछ अजीब सी कशमकश...

कुछ अजीब सी कश्मक़श है,शायरी पढ़ने के बाद...
इनकी वाह पे हँस लूँ...कि मेरी आह पे रो लूँ ...

No comments:

Post a Comment