Saturday, November 29, 2014

कई क़ातिल भी देखे ...

क़त्ल भी देखे थे और कई क़ातिल भी थे देखे पर....
झुकी पलकों के ख़ंजर चलाना कोई तुमसे सीखे ...

No comments:

Post a Comment