Saturday, November 29, 2014

ये मौसम का बदलना है,या...

जो फिज़ा कुछ अलग सी महकनें लगी है आज शाम से ही...
ये मौसम का बदलना है,या तू बिन बताये मिलने आ रही है मुझसे...

No comments:

Post a Comment