Friday, December 23, 2011

उनकी नज़र का..........

उनकी नज़र का  क्या गुनाह मेरे दोस्त इस दिल पे..
एक इसी कातिल ने तो रोक रखा है सांस लेने पे  हमको...

No comments:

Post a Comment