Friday, March 13, 2009

ना मोह्हबत का एहसास होता ....

ना मोह्हबत का एहसास होता ,
ना जख्म होते दुनिया में ,

यह कह कर हस देते है हम ,
ना कहते तो रोते दुनिया में ,

No comments:

Post a Comment