Wednesday, March 4, 2009

काश उनकी नज़र.....

काश उनकी नज़र भी कभी बेखबर सी ,कमरे के मेरे आईने पे गिरती ,
तो उनके हुस्न के नूर से हम भी खुदा का दीदार पाते .
टूट जाए काश आईना भी उस पल ही ,केशू के उनके छू जाने से ,
ज़माना तो तरसता है एक नश्क़ को उनके ,टुकडो में हम हज़ार पाते ।

शशि 'दिल से ....

No comments:

Post a Comment