Friday, November 19, 2010

क्यों हंसी वो

क्यों हंसी वो याद आती है हर पहर ....

जब निशानी उसकी इन हांथो से भी मिटा बैठे है हम ....


शशि 'दिल से .....

No comments:

Post a Comment