Monday, January 23, 2012

जो तेरा नाम यूँ महफ़िल में.....

बड़ी तकलीफ़ हुई, जो तेरा नाम यूँ महफ़िल में, उछाला गया  शायरी का नाम ले के..
' शशि ' कैसे बता दे सबको कि, इसी नाम ने ही तो मेरी, कलम को आवाज़ दी है..

2 comments: